LFT Test: पूरी जानकारी हिंदी में!

May 19, 2024
99
Views

लिवर फंक्शन टेस्ट (LFT) एक प्रयोग है जिसे चिकित्सक लिवर की स्वास्थ्य स्थिति को जांचने के लिए कराते हैं। यह टेस्ट कई तत्वों की मात्रा की जांच करता है, जैसे किसी विशेष रोग या किसी दवा के कारण लिवर को कितना प्रभावित कर रहे हैं। LFT टेस्ट में कई मापदंड हो सकते हैं, जैसे कि एलानिन एमिनोट्रांसफरेज (ALT), एस्पार्टेट एमिनोट्रांसफरेज (AST), बिलीरुबिन, प्रोटीन जैसे। इन मापदंडों की मात्रा लिवर की स्वास्थ्य को निर्धारित करने में मददगार होती है।

लिवर फंक्शन टेस्ट क्यों महत्वपूर्ण है?

लिवर फंक्शन टेस्ट (LFT) लिवर की स्वास्थ्य की निरीक्षण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह टेस्ट बीमारियों की पहचान, उनके स्तर का निर्धारण और उपचार में मदद करता है। इसके माध्यम से डॉक्टर किसी विशेष परिस्थिति के बारे में सही जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और उपचार की सहायता प्रदान कर सकते हैं।

लिवर फंक्शन टेस्ट किस लिए किया जाता है?

लिवर फंक्शन टेस्ट कई समस्याओं की पहचान करने में मदद कर सकता है, जैसे:
– लिवर समस्याएँ जैसे कि सिरोसिस या फैटी लिवर
– डायबिटीज
– गैलब्लैडर संबंधित समस्याएँ
– अल्कोहलिक सिरोसिस
– गठिया
– दवाओं या औषधियों के साइड इफ़ेक्ट्स

लिवर फंक्शन टेस्ट में क्या होता है?

लिवर फंक्शन टेस्ट में कई मापदंडों की जांच की जाती है, जैसे:
1. ALT (एलानिन एमिनोट्रांसफरेज): यह मापदंड उचित रूप से उपजाऊ होने वाले एंजाइम की मात्रा की जांच करता है जो लिवर में पाया जाता है।
2. AST (एस्पार्टेट एमिनोट्रांसफरेज): इस मापदंड से भी एक एंजाइम की मात्रा का पता चलता है जो लिवर और अन्य अंगों में पाया जाता है।
3. बिलीरुबिन: इस मापदंड से लिवर के समुंदर में मौजूद बिलीरुबिन की मात्रा की जांच की जाती है।
4. प्रोटीन: लिवर के स्वास्थ्य की दृष्टि से किसी व्यक्ति के शरीर में प्रोटीन की मात्रा भी महत्वपूर्ण है।

लिवर फंक्शन टेस्ट कैसे किया जाता है?

लिवर फंक्शन टेस्ट के लिए रक्त परीक्षण किया जाता है जिसमें रक्त का नमूना लेना होता है। यह तत्वों की मात्रा का पता चलाने में मदद करता है जो लिवर स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। रक्त परीक्षण के लिए विशेष दवा या निर्देशित संदिग्ध रोगों की दवाएँ भी रोकी जा सकती हैं।

लिवर फंक्शन टेस्ट के परिणामों का मतलब क्या है?

लिवर फंक्शन टेस्ट के परिणाम के आधार पर चिकित्सक या वैज्ञानिक लिवर की स्वास्थ्य के बा�द निर्णय कर सकते हैं। उचित रूप से मापातें किसी विशेष समस्या का पता लगाने में मदद कर सकती हैं और उपचार के निर्धारण में सहायक साबित हो सकती हैं।

लिवर फंक्शन टेस्ट स्वास्थ्य स्थिति की जां�च क�े �लायक औजार

लिवर फंक्शन टेस्ट एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य आय उपकरण है जो लिवर की स्वास्थ्य को मापने में मदद करता है। इसके माध्यम से चिकित्सक सही निदान और उपचार का निर्धारण कर सकते हैं, जिससे रोगों का प्रबंधन संभव होता है।

Frequently Asked Questions (FAQs) about LFT Test

Q1: लिवर फंक्शन टेस्ट कितनी बार करवाना चाहिए?
A1: लिवर फंक्शन टेस्ट की आवश्यकता व्यक्ति की स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करती है। डॉक्टर आम तौर पर इस टेस्ट की सालाना मात्रा का सु�धार करते हैं।

Q2: लिवर फंक्शन टेस्ट के लिए किसी खास तैयारी की आवश्यकता है?
A2: जी हां, लिवर फंक्शन टेस्ट के लिए आम तौर पर नींद पूरी करने की सलाह दी जाती है और पहले से कुछ घंटे भू� के रोका जाता है।

Q3: लिवर फंक्शन टेस्ट के परिणाम कितने समय में मिलते हैं?
A3: लिवर फंक्शन टेस्ट के परिणाम आम तौर पर 1 से 2 दिन में मिल जाते हैं।

Q4: लिवर फंक्शन टेस्ट का कोई साइड इफ़ेक्ट होता है?
A4: लिवर फंक्शन टेस्ट करवाने के दौरान कोई खास साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है।

Q5: क्या लिवर फंक्शन टेस्ट की व्यापक परीक्षा होती है?
A5: हां, लिवर फंक्शन टेस्ट की मदद से व्यक्ति के लिवर की स्वास्थ्य की व्यापक जां�च की जा सकती है।

Article Categories:
Uncategorized
By

His love for reading is one of the many things that make him such a well-rounded individual. He's worked as both an freelancer and with Business Today before joining our team, but his addiction to self help books isn't something you can put into words - it just shows how much time he spends thinking about what kindles your soul!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 64 MB. You can upload: image, audio, video, document, spreadsheet, interactive, text, archive, code, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded. Drop file here